फ्यूचर ट्रेडिंग

डेरिवेटिव क्या हैं?

अ: डेरिवेटिव ऐसा वित्तीय साधन है जिनका मूल्य अंतर्निहित विभिन्न वस्तुओं पर निर्भर करता है. जैसा कि नाम से पता चलता है, यह अपना मूल्य अंतर्निहित संपत्ति से उत्पन्न करता है. उदाहरण के लिए-कोई डेरिवेटिव किसी शेयर, या किसी महत्वपूर्ण उद्देश्य के लिए बनाया गया हो सकता है. सबसे अधिक सामान्य अंतर्निहित संपत्तियों में स्टॉक, बॉन्ड, कमोडिटी आदि शामिल होते हैं.

आइये एक उदाहरण के माध्यम से डेरिवेटिव अनुबंध देखते और समझते हैं:

अनिल स्क्रिप 'सत्यम कंप्यूटर्स' में फ्यूचर अनुबंध खरीदता है. यदि सत्यम कंप्यूटर्स का मूल्य 500 रु. बढ़ता है, तो उसे 500 रु. का लाभ होगा. यदि मूल्य नहीं बदलता है, तो अनिल को कुछ नहीं मिलेगा. यदि सत्यम कंप्यूटर्स के स्टॉक का मूल्य 800 रु. गिर जाता है, तो उसे 800 रु. का नुकसान होगा.

जैसा कि हम देख सकते हैं, ऊपर दिया गया अनुबंध सत्यम कंप्यूटर्स स्क्रिप पर निर्भर करता है, जो कि अंतर्निहित प्रतिभूति है. उसी तरह से, फ्यूचर ट्रेडिंग इंडिसेस पर भी हो सकती है. निफ्टी फ्यूचर, स्टॉक बाजार में बेहद सामान्य तौर पर ट्रेड किया जाने वाला डेरिवेटिव अनुबंध है. निफ्टी फ्यूचर के मामले में अंतर्निहित प्रतिभूति इंडेक्स निफ्टी होगी.

अलग-अलग प्रकार के डेरिवेटिव क्या है?

अ: डेरिवेटिव मूल रूप से निम्न प्रकारों में वर्गीकृत होते हैं:

  • फ्यूचर/फ़ॉरवर्ड
  • ऑप्शन
  • स्वैप

फ़्यूचर क्या है?

अ: कोई फ्यूचर अनुबंध डेरिवेटिव साधन, या वित्तीय अनुबंध का प्रकार है जहाँ दोनों पक्ष किसी मूल्य पर भविष्य में डिलीवरी के लिए वित्तीय साधनों या भौतिक कमोडिटी के लेनदेन के लिए सहमत होते हैं.

नीचे बताया गया उदाहरण फ्यूचर ट्रेडिंग की अवधारणा को सरल शब्दों में बताएगा:

केस 1:

रवि एक लेपटॉप खरीदना चाहता हैं, जिसकी कीमत 50000 रुपए हैं, लेकिन नगद पैसों की कमी के कारण वह आज से 2 महीने बाद खरीदने का निर्णय लेता है. हालांकि उसे लगता है कि आज से 2 महीने बाद लेपटॉप के दाम इनपुट/निर्माण लागत के कारण बढ़ सकते हैं. अपनी सुरक्षा के लिए, रवि लेपटॉप निर्माता से एक अनुबंध करता है जिसके अनुसार अब वह आज से 2 महीने बाद 50000 रुपए में लेपटॉप खरीदेगा. वह सचेत है और 2 महीने बाद आज के मूल्य पर लेपटॉप खरदने के लिए सहमत हैं. प्रविष्ट फ़ॉरवर्ड अनुबंध इस तरह परिपक्वता पर तय किया जाएगा. निर्माता दो महीने बाद रवि को वस्तु प्रदान करेगा और उसके बदले में रवि नकद भुगतान करेगा.

इसलिए एक फ़ॉरवर्ड अनुबंध डेरिवेटिव लेनदेन का सबसे आसान तरीका है. यह किसी निर्दिष्ट मूल्य के लिए भविष्य में किसी निश्चित समय पर कोई वस्तु खरीदने या बेचने का अनुबंध है. अनुबंध करते समय कोई नकद लेनदेन नहीं किया जाएगा.

इंडेक्स फ्यूचर क्या है?

अ:जैसा कि ऊपर बताया गया है, फ्यूचर वे डेरिवेटिव हैं जहाँ दो पक्ष वित्तीय साधनों या भौतिक कमोडिटी के भविष्य में किसी निश्चित मूल्य पर लेनदेन करने पर सहमत होते हैं. इंडेक्स फ्यूचर वे फ्यूचर अनुबंध है जहाँ स्टॉक इंडेक्स (निफ्टी या सेंसेक्स) अंतर्निहित है और किसी ट्रेडर को पूरे बाजार परिदृश्य पर नज़र डालने में मदद करते हैं.

लोट आकार का क्या अर्थ है?

अ:लोट आकार का अर्थ उस मात्रा से है जिसमें बाजार में कोई निवेशक किसी विशेष स्क्रिप के डेरिवेटिव का व्यापार कर सकता है. उदाहरण के लिए निफ्टी फ्यूचर में लोट आकार 100 या 100 के गुणज में है. इसलिए यदि किसी व्यक्ति ने निफ्टी फ्यूचर का एक लोट खरीदा, तो मूल्य उस समय पर 100*निफ्टी इंडेक्स मूल्य होगा.

इसी प्रकार कई अन्य स्क्रिप जैसे इंफोसिस, रिलाइंस के लोट खरीदे जा सकते हैं और प्रत्येक में अलग-अलग लोट आकार हो सकता है. एनएसई में फ्यूचर और ऑप्शन अनुबंध के लिए दो लाख रुपए का न्यूनतम मूल्य तय किया है. लोट आकार उन न्यूनतम शेयरों पर निर्धारित किए जाते हैं जिन पर कोई ट्रेडर यथास्थिति बनाए रख सकता है.

फ़्यूचर ट्रेडिंग में समाप्ति दिनांक से क्या तात्पर्य है?

अ:प्रत्येक प्रविष्ट किए गए अनुबंध की समाप्ति दिनांक होती है. इसका अर्थ उस अवधि से है जिसमें कोई फ्यूचर अनुबंध अवश्य पूर्ण हो जाना चाहिए. फ्यूचर अनुबंधों की अवधि 1 महीना, 2 महीना या अधिकतम 3 महीनों की हो सकती है. प्रत्येक अनुबंध समापन माह के अंतिम गुरुवार को समाप्त हो जाता है और उसी दौरान अनुबंध की समाप्ति के बाद ट्रेडिंग के लिए नया अनुबंध किया जाता है.

डेरिवेटिव के क्या उपयोग हैं? विभिन्न डेरिवेटिव रणनीतियाँ क्या हैं जिनका मैं उपयोग कर सकता/सकती हूँ?

अ: डेरिवेटिव उपयोग के कई प्रकार हैं जैसे कि:

  • हैजिंग
  • स्पेक्यूलेशन और
  • आर्बिट्रेज
यह कैसे मदद करता है ?
  • मौजूदा बैंक खाता सुविधा का उपयोग
  • भागीदारी के माध्यम से सुविधा का उपयोग
  • कोटक सिक्योरिटीज समर्थन
Reach Us
इम्पोर्टेंस ऑफ़ डीमैट अकाउंट?