Home » Research » Investment Knowledge Bank » Hindi » Demat Account

डीमेट अकाउंट की मूल बातें

  • डीमेट अकाउंट खोलना
  • शामिल शुल्क
  • किसी व्यक्ति को शुरुआत कहां से करनी चाहिए?
  • डीमेट अकाउंट खोलने के लिए आपके पास कितने शेयर होने चाहिए?
  • इसकी लागत क्या होगी?
  • नामकरण संभव है?
  • निक्षेपागार भागीदारों के बीच शेयर का स्थानांतरण संभव है

डीमेट अकाउंट कैसे खोलें

अ: डीमेट खाता खोलने के लिए निवेशक को सेबी से पंजीकृत डिपॉजिटरी पार्टीसिपेंट के साथ डीमेट अकाउंट खोलने की आवश्यकता है. अकाउंट खोलने के लिए निवेशक को अकाउंट ओपनिंग फ़ॉर्म भरना होगा सेबी द्वारा स्वीकृत दस्तावेज़ों की प्रतियाँ पहचान के प्रमाण, पते के प्रमाण के रूप में और अकाउंट खोलते समय मूल पैन कार्ड जमा करना होगा. सभी आवेदकों को सत्यापन के लिए मूल दस्तावेज़ लाने चाहिए. डीपी निवेशकों को अनुबंध की प्रति और शुल्कों की अनुसूची भी प्रदान करता है. अकाउंट ओपनिंग दस्तावेज़ों को प्रोसेस करने के बाद डीपी आवेदक को अकाउंट नंबर (क्लाइंट आईडी) प्रदान करेगा. डीपी से आवेदक का अकाउंट खुल जाने के बाद, आवेदक क्लाइंट बन जाता/जाती है जिसे बीओ (बेनेफिशियरी ऑनर) भी कहा जाता है और उसे आवंटित अकाउंट नंबर बीओ-आईडी (बनेफिशियरी ऑनर आइडेंटिफिकेशन नंबर) कहा जाता है.

और अकाउंट खोलते समय आवेदक का इन-पर्सन वैरिफिकेशन (आईपीवी) डिपी द्वारा किया जाना चाहिए. डीपी के स्टाफ को अकाउंट ओपनिंग फ़ॉर्म में संलग्न फ़ोटोग्राफ साथ ही संबंधित व्यक्ति की पहचान का प्रमाण सत्यापित करके आवेदक (नाबालिग होने पर अभिभावक का) की पहचान स्थापित करनी चाहिए. ज्वाइंट अकाउंट होने की स्थिति में, अकाउंट के सभी धारकों के लिए आइपीवी किया जाना चाहिए.

डीमेट सेवाएँ वर्तमान में ब्रोकिंग हाउस, साथ ही कई वित्तीय और बैंकिंग संस्थानों द्वारा दी जा रही है. डिपॉज़िटरी सेवाएँ प्रदान करने वाली एंटीटी को डिपॉज़िटरी भागीदार के रूप में जाना जाता है. परिभाषा के अनुसार डिपॉज़िटरी भागीदार एनएसडीएल और/या सीएसडीएल, और निवेशक के बीच मध्यस्थ होता है.

शामिल शुल्क

डीमेट अकाउंट खोलने के लिए आपको कुछ निश्चित शुल्क देना होगा. यह शुल्क प्रमुख मदों में विभाजित होता है:

  • वार्षिक रखरखाव शुल्क
  • संरक्षक शुल्क
  • लेनदेन शुल्क

सभी शुल्क अन्य से डीपी में अलग होते हैं.

वार्षिक रखरखाव शुल्क

यह शुल्क खाते के रखरखाव से लिया जाता है.

लेनदेन शुल्क

यह शुल्क ऋण वाली प्रतिभूतियों और खाते से मासिक आधार पर ली जाती है. जबकि कुछ डीपी, प्रति लेनदेन स्पष्ट शुल्क लेते हैं, अन्य लेनदेन मूल्य से शुल्क जोड़ते हैं, न्यूनतम राशि के अंतर्गत. शुल्क लेनदेन के प्रकार (खरीदना या बेचना) के आधार पर भी अलग-अलग होते हैं. इसके अतिरिक्त डीपी शेयर को भौतिक रूप से इलेक्ट्रॉनिक रूप में या इसके विपरीत बदलने के लिए भी शुल्क लगाता है. शुल्क डीमेट और रीमेट अनुरोधों दोनों के लिए अलग-अलग हो सकते हैं. डीमेट के लिए कुछ डीपी प्रति प्रमाणपत्र परिवर्ती शुल्क के साथ एकमुश्त शुल्क लगाते हैं, जबकि अन्य केवल परिवर्ती शुल्क लगाते हैं.

डीमेट अकाउंट शुल्कों के बारे में अधिक जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

किसी व्यक्ति को शुरुआत कहाँ से करनी चाहिए?

अ: पहला चरण डीपी के साथ कोई अकाउंट खोलना है. अधिकांश ब्रोकिंग हाउस, साथ ही कई वित्तीय और बैंकिंग संस्थान डिपोज़िटरी सेवाएँ प्रदान करते हैं और इसलिए डिपोज़िटरी भागीदार के रूप में भी जाने जाते हैं. आपके ब्रोकर का DP मौजूद होना आवश्यक नहीं है, लेकिन कई ब्रोकर अपने DP के साथ डीमैट खाता खोलने का प्रस्ताव देकर अपने क्लाइंट को प्रोत्साहन देते हैं.
यहां ऐसे दस्तावेज़ों की विस्तृत सूची है जो आपको खाता खोलते समय लग सकते है (हालांकि आपको उन सभी की आवश्यकता नहीं होती हैं).

पहचान प्रमाण

  • पैन कार्ड
  • मतदाता पहचान पत्र
  • पासपोर्ट
  • ड्राइवर लाइसेंस
  • बैंक सत्यापन
  • आईटी रिटर्न
  • बिजली/लैंडलाइन फोन का बिल
  • आवेदनकर्ता के फ़ोटो वाला आई कार्ड, इनके द्वारा जारी किया गया
    • केंद्र/राज्य सरकार और उसके विभाग
    • संवैधानिक/विनियामक प्राधिकारी
    • सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम
    • अनुसूचित वाणिज्यिक बैंक
    • सार्वजनिक वित्तीय संस्थाएं
    • विश्वविद्यालय से संबद्द कॉलेज(इसे तब तक ही मान्य समझा जाएगा जब तकि कि आवेदक छात्र हो)
    • व्यावसायिक निकाय जैसे कि आईसीएआई , आईसीडब्ल्यूएआई , आईसीएसआई, बार काउंसिल आदि, द्वारा उनके सदस्यों को और

पते का प्रमाण:

  • राशन कार्ड
  • पासपोर्ट
  • मतदाता पहचान पत्र
  • ड्राईविंग लाइसेंस
  • बैंक पासबुक/बैंक विवरण (1 दिसंबर 2007 के एनएसडीएल/पॉलिसी/2007/0074 और 27 मई 2008 के एनएसडीएल/पॉलिसी/2008/0037)
  • इनकी सत्यापित प्रति
    • बिजली बिल (दो महीन से अधिक पुराना नहीं)
    • निवास का टेलीफ़ोन बिल (दो महीने से अधिक पुराना नहीं) और
    • लीव-लाइसेंस अनुबंध/बिक्री के लिए अनुबंध
  • हाई कोर्ट तथा सुप्रीम कोर्ट के जज द्वारा उनके स्वयं के खाते के संबंध में नया पता प्रदान करते हुए, स्व घोषणा.
  • पहचान पत्र/पते के साथ दस्तावेज़, इनके द्वारा जारी किए गए
    • केंद्र/राज्य सरकार और उसके विभाग
    • संवैधानिक/विनियामक प्राधिकारी
    • सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम
    • अनुसूचित वाणिज्यिक बैंक
    • सार्वजनिक वित्तीय संस्थाएं
    • विश्वविद्यालय से संबद्द कॉलेज(इसे तब तक ही मान्य समझा जाएगा जब तकि कि आवेदक छात्र हो)
    • व्यावसायिक निकाय जैसे कि आईसीएआई , आईसीडब्ल्यूएआई , आईसीएसआई, बार काउंसिल आदि, द्वारा उनके सदस्यों को और

सबमिशन के लिए केवल दस्तावेज़ो की प्रतिलिपि ही आवश्यक होती है, लेकिन सत्यापन के लिए मूल दस्तावेज़ों की आवश्यकता होती है. आवेदक को खाता खोलने के फ़ॉर्म के साथ एक पासपोर्ट आकार का फ़ोटो भी देना पड़ता है.

किसी डिमैट खाते को खोलने के लिए आपके पास कितने शेयर होना चाहिए?

अ: एक डिमैट खाता बिना किसी शेयर के खोला जा सकता है और किसी न्यूनतम राशि को बनाए रखने की आवश्कता नहीं होती है. आपके खाते में शून्य राशि भी हो सकती है

इसकी लागत क्या होगी?

अ: डिमैट खाता खोलने के लिए आपको कुछ शुल्क देना होगा: इस शुल्क को चार मुख्य भागों में विभाजित किया जाता है 1.) वार्षिक रखरखाव शुल्क 2.)लेनदेन शुल्क. सभी शुल्क एक से दूसरे डीपी के अनुसार भिन्न हो सकते हैं.

नामांकन संभव है?

अ: हाँ, नामांकन संभव है आप खाता खोलने के फ़ॉर्म में नामांकन विवरण भरकर अपनी पंसद के नामित व्यक्ति का नामांकन कर सकते हैं. इससे डीमैट खाता धारक की मुत्यु के पश्चात नामित व्यक्ति प्रतिभूतियों को प्राप्त करने के लिए सक्षम होता है.

डिपोज़िटरी प्रतिभागियों के बीच शेयरों का हस्तांतरण

अ: शेयरो का हस्तांतरण संभव है, आपको डिलिवरी इंस्ट्रक्शन स्लिप बुक (डीआईएस) भरना होगी और इसे अपने डीपी को, अपने शेयर एक से दूसरे डीपी खाते में हस्तांतरित करने के लिए देनी होगी.. हालांकि आपको यह देखना होगा कि, क्या दोनों डीमैट खाते के डिपॉजिटरी प्रतिभागी एक है या नहीं(सीडीएसएल या एनएसडीएल) यदि वे दोनों अलग हैं, तो फिर आपको एक इंटर डिपॉजिटरी स्लिप(इंटर डीआईएस) लगेगी. यदि वे दोनों एक ही हैं, तो फिर आपको इंट्रा डिपॉज़िटरी स्लिप(इंट्रा स्लिप) की आवश्यकता होगी.

उस डीआईएस को बाज़ार खुला होने पर सबमिट करने का प्रयास करें. तदानुसार, डीआईएस सबमिट करने की तिथि और डीआईएस के निष्पादन की तिथि एक हो सकती है हालांकि एक दिन का अंतर भी स्वीकृत है. हस्तांतरित करने के लिए, आपको कुछ शुल्क ब्रोकर को भी देना होगा.


Article Pages
Best Demat AccountBuy Mutual Fund without Demat AccountConclusion Of Demat Account
Convert Physical Shares To Demat AccountDemat Account Opening ChargesDifference Between Trading Account and Demat Account
How To Close Demat AccountInformative Report On Demat Account
Product Pages
Brokerage ChargesCollateral Amount in Demat AccountDemat Account Number
Documents Required for Demat AccountHow to Open Demat AccountUse of Demat Account
What is Dematerialization AccountMultiple Demat Account in IndiaLink your Aadhar number with Demat account
Procedure for buying shares through a Demat accountDifference Between Dematerialisation Vs. Rematerialisationdemat account and its uses
What are bonus shares?Demat AccountBenefits Of Dematerialization
FAQs Pages
Demat Account ProfileTransfer Shares from Demat AccountDemat Account Security Key
Transfer Shares to DematNRI AccountDemat Account Charges
यह कैसे मदद करता है ?
  • मौजूदा बैंक खाता सुविधा का उपयोग
  • भागीदारी के माध्यम से सुविधा का उपयोग
  • कोटक सिक्योरिटीज समर्थ
Reach Us